वास्तु शास्त्र में ज्ञानेंद्रिय आधार

ज्ञानेंद्रिय सिद्धांत हम सभी यह जानते हैं कि जिस प्रकार वास्तु शास्त्र के सिद्धांत पंचतत्व या पंचमहाभूतओ के इर्द गिर्द घूमते हैं। उसी प्रकार वास्तु में वर्णित पांचों तत्व हमारे…

Continue Reading वास्तु शास्त्र में ज्ञानेंद्रिय आधार

वास्तु शास्त्र का पर्यावरण सुरक्षा में योगदान

प्रकृति के साथ तालमेल प्रकृति के द्वारा बनाए गए सिद्धांतों एवं इनके साथ तालमेल रखते हुए जीवन बिताना ही वास्तु शास्त्र के मर्म में छिपा वह रहस्य है जिसे हमारे प्राचीन…

Continue Reading वास्तु शास्त्र का पर्यावरण सुरक्षा में योगदान

वास्तु शास्त्र का स्वास्थ्य से संबंध

स्वास्थ्य के लिए विभिन्न वास्तु आयाम: वैदिक वास्तु शास्त्र में वर्णित सभी दिशा निर्देश पंचतत्व के सिद्धांत के आसपास घूमते हैं। सृष्टि मानव जीवन पर्यावरण एवं प्रकृति आदि सभी कुछ पांच…

Continue Reading वास्तु शास्त्र का स्वास्थ्य से संबंध

वास्तु शास्त्र के कुछ सार्वभौमिक सिद्धांत

सभी प्राणियों पर एक समान रूप से लागू : हम सभी यह भली-भांति जानते हैं कि वास्तु शास्त्र में नैसर्गिक ऊर्जा तरंगों की प्रकृति को मध्य नजर रखते हुए ही भवन…

Continue Reading वास्तु शास्त्र के कुछ सार्वभौमिक सिद्धांत

भूमि की विभिन्न सकारात्मक एवं नकारात्मक ऊर्जा तरंगे

परंपरागत वास्तु शास्त्र का विषय क्षेत्र परंपरागत वास्तु शास्त्र में दो प्रकार का अध्ययन किया जाता रहा है एक तो वह जो कि विभिन्न दिशाओं व उप दिशाओं से संबंधित पद्धति…

Continue Reading भूमि की विभिन्न सकारात्मक एवं नकारात्मक ऊर्जा तरंगे

भवन निर्माण हेतु भूमि का चयन

भूमि के रंग व सामान्य अवलोकन पर आधारित भू परीक्षण भूमि भवन का आधार है अर्थात बिना भूमि के किसी भी बिल्डिंग के अस्तित्व की कल्पना भी नहीं की जा…

Continue Reading भवन निर्माण हेतु भूमि का चयन

वास्तु शास्त्र का हमारे जीवन में महत्व

मनुष्य की तीन मूलभूत आवश्यकता है रोटी, कपड़ा, और मकान । यहां जितना महत्व भोजन व वस्त्र का है उतना ही महत्व मकान का भी है । जब भोजन से…

Continue Reading वास्तु शास्त्र का हमारे जीवन में महत्व

तत्वों की संख्या 5 ही क्यों

सृष्टि के पांच तत्वों के बाद निश्चित रूप से रसायन विज्ञान के छात्रों के गले नहीं उतरेगी क्योंकि उन्होंने तो इन तत्वों (एलिमेंट्स) के विषय में यह पड़ा है कि…

Continue Reading तत्वों की संख्या 5 ही क्यों

पंन्चतत्वों के संतुलन का महत्व

क्या है पंच तत्वों का संतुलन  जैसा कि बताया जा चुका है, कि इस सृष्टि एवं सभी प्राणियों के अस्तित्व को बनाए रखने के लिए इन पांचों तत्वों( भूमि,आकाश,वायु,अग्नि एवं…

Continue Reading पंन्चतत्वों के संतुलन का महत्व

वास्तु शास्त्र की पृष्ठभूमि आधार महत्त्व एवं प्रयोग

वास्तु शास्त्र क्या है।परिभाषा & सृष्टि के नैसर्गिक नियमों के अनुसार रहने का नाम ही वास्तु है, अर्थ यदि हम इस संपूर्ण जगत के सभी प्राणियों व्यक्तियों जीव जंतुओं एवं…

Continue Reading वास्तु शास्त्र की पृष्ठभूमि आधार महत्त्व एवं प्रयोग