Different Lands, Different Effects

Table of Contents

भूमि के लक्षण

  1. दक्षिण, पश्चिम, नैऋत्य और वायव्य में ऊँची भूमि को गजपृष्ठ भूमि कहते हैं। इस पर निवास करने से लक्ष्मीलाभ एवं आयुवृद्धि होती है।
  2. चारों ओर नीची एवं मध्य में ऊँची भूमि को कूर्मपृष्ठ भूमि कहते हैं, इस पर निवास करने से प्रतिदिन उत्साह, सुख और धन-धान्य की वृद्धि होती है।
  3. पूर्व, आग्नेय एवं ईशान दिशा में ऊँची एवं पश्चिम में नीची भूमि को दैत्यपृष्ठ भूमि कहते है, इससे धन-जन एवं सुख-शान्ति की हानि होती है।
  4. पूर्व-पश्चिम दिशा में लम्बी, उत्तर-दक्षिण में ऊँची और बीच में नीची भूमि को नागपृष्ठ भूमि कहते है। इस पर निवास करने से उद्वेग, मृत्युभय, स्त्री-पुत्रादि की हानि और शत्रुवृद्धि होती रहती है। 

Blog Post By : Dr. A. K. Jain, Best Vastu Consultant in Udaipur, India.

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest

This Post Has 45 Comments

  1. lata sharma

    Good

  2. Bhagyshree kumawat

    Thanks

  3. Bhanu priya kumawat

    Thx

    1. Arti Srivastava

      Very nice

  4. kusum sonawa

    Nice…………….

  5. Neelima jain

    very nice

  6. Neelima jain

    nice

  7. Neeilma jain

    very nice blogs

  8. Meena Nagda

    useful blogs

  9. Indera Sharma

    Very nice

  10. Lovely Rathore

    Good

    1. GANESH BHOPE GURUJI

      Konse bhumi par nivas karne kya hota hai
      Information prapt ho gai

  11. Veer Kumar

    useful blogs

  12. Shahnawaz Khan

    thanks

  13. Sujata Aahari

    Thx for this blogs

  14. Anil Yadav

    useful blogs

  15. Amit Patel

    Good

  16. Surekha Meena

    Thx for this blogs

  17. Sahiba Pathan

    Useful blogs

  18. Disha Vaishanav

    nice…

  19. Divyansha Patwa

    Thanks

  20. Hiten Mandawara

    good sir

  21. Radhe Chouhan

    Thx for this blogs

  22. Radhe sing

    nice blogs

  23. Radhe Prajapat

    good

  24. Rajendra Sharma

    Thanks

  25. Radhe Rathore

    very very useful blogs

  26. Radhe Sharma

    good

  27. Heena meghwal

    Thanks for blog

  28. DIPAKBHAI SONAGARA

    Good

  29. Ashwini Yogesh Pingle

    Very helpful information

  30. Vivek kumar

    thnks sir

  31. SANJAY S DARDA

    Khup Chan information

  32. Kailash vats

    4 तरह की भूमि के विषय में ज्ञान प्राप्त हुआ

  33. Sitaram Keshri

    भूमि के निम्नलिखित लक्षण हैं-
    दक्षिण,पश्चिम नैऋत्य और वायव्य में ऊंची भूमि को गज पृष्ठभूमि कहते हैं। इस पर निवास करने से लक्ष्मी लाभ एवं आयु वृद्धि होती है।
    चारों और नीची एवं मध्य में ऊंची भूमि को कुर्म पृष्ठभूमि कहते हैं।
    पूर्व ,आग्नेय एवं ईशान दिशा में ऊंची एवं पश्चिमी में नीजी भूमि को दैत्य भूमि कहते हैं।
    पूर्व- पश्चिम दिशा में लंबी उत्तर- दक्षिण में ऊंची और बीच में नीचे भूमि को नाग पृष्ठभूमि कहते हैं।

  34. Pranali_B

    Disha nushar bhumi (parinam/fayde)Ka chain krna Sikha…

  35. prakash yadav

    good

  36. Difference land par different effect hota hai, bhaut tarha ke bhukhand hota hai, koun bhumi,rahne ke liye upyogi iski bhi jankari yha mila

  37. kirti kumar joshi

    nice sir

  38. aditya

    Very nice information

  39. Shweta chundawat

    Useful information about land.

Leave a Reply

Dr. Aneel Kummar Barjatiyaa

Dr. Aneel Kummar Barjatiyaa

" India's Highest 5* Rating Vaastu Consultant Dr. Aneel Kummar Barjatiyaa (Gold Medalist) is one of the most renowned and Best Vastu Consultants in India. "

Testimonials

Our Services

vastu for homes

Vastu For Homes

Vastu for business

Vastu For Business

Vastu for careers

Vastu For Career

Vastu for hotels

Vastu For Hotels

Vastu for Business

Vastu For Shops

vastu for factories

Vastu For Factories